राजभाषा विभाग

Department of Official Language
गृह मंत्रालय, भारत सरकार

 प्रसिद्ध लघु कहानियाँ
+ रविंद्रनाथ टैगोर
+ प्रेमचंद
+ जयशंकर प्रसाद
+ यशपाल
+ चंद्रधर शर्मा गुलेरी
+ सआदत हसन मंटो
+ फणीश्वरनाथ रेणु
+ निर्मल वर्मा
+ नागार्जुन
+ जैनेन्द्र कुमार
+ यशपाल
+ भीष्म साहनी
+ महीप सिंह
+ सुदर्शन
+ कृष्णा सोबती
+ सुभद्रा कुमारी चौहान
+ पंचतंत्र की कहानियाँ
- डॉ दिनेश चमोला
   नाग का उपकार
   प्रेम का प्रतिदान
   चोर की दाढ़ी में तिनका
   उपकार का बदला
   गोमती का उपकार
   करनी का फल
   बूढ़ा पीपल और मोहिनी
   चूहे जी का चमत्‍कार
   चम्‍पा का राजकुमार
+  डॉ प्रियंका सारस्वत(संपादक)
चूहे जी का चमत्‍कार

नील प्रदेश के जंगल में एक विषैला व बड़ा नाग रहता था । उसके भय से जंगल के सभी जीव-जंतु परेशान रहते थे । यदि मीलों दूर भी कोई जीव-जंतु दिखाई देता तो वह क्रोध से फुफकारने लग जाता । उस जंगल के छोटे जीव तो अलग, यहां तक कि शेर, चीते, हाथी, भालू जैसे बड़े-बड़े जानवर भी वहां जाने से कतराते थे । आस-पास के जंगल सब सूख गए थे । हरा-भरा जंगल था तो केवल नील प्रदेश का । वहां के हरे-भरे फूल व हरे-भरे चारे को देख कर सभी की लार टपकती थी । लेकिन वहां जाने का साहस किसी में नहीं था । सभी जीव-जन्‍तु भूख से बहुत दुखी थे ।

जब सभी छोटे-बड़े जीव भूख से व्‍याकुल होने लगे तो उन्‍होंने जंगल के जीवों की एक आपात बैठक बुलाई । सभी ने इस गंभीर समस्‍या पर गहराई से सोचा कि जब खाने का ही कुछ नहीं रहेगा तो कोई जीवित कैसे बच पाएगा । सभी ने अपने-अपने विचार रखे लेकिन किसी का भी विचार दमखम से पूर्ण नहीं था । किसी ने कहा कि हम सभी को मिलकर उसका सामना करना चाहिए । लेकिन तभी राजा शेरसिंह ने कहा, `वह कौन-सा हमारे सामने सीना ताने खड़ा रहता है । न जाने किस बिल में छुपकर वार कर दे । फिर उसका विष तो एक मील दूर तक फैलता है ।`

सभी ने अपनी-अपनी उम्र व अनुभव के हिसाब से विचार रखे । लेकिन किसी का भी विचार किसी के मन को नहीं रमा । सबसे अंत में एक बूढ़े संगीतकार चूहे ने अपनी नाक की ऐनक कुछ ठीक करते हुए कहा -

`मित्रो! आप सब जीव-जन्‍तु इतने बलवान व ताकतवर होते हुए भी एक सांप से डर रहे हैं । मुझे पहले बताया होता । तभी समाधान कर देता । जहां कोई शक्‍ति काम नहीं करती, वहां बुद्धि से काम लेना होता है । परसों सवेरे आप नील नदी के किनारे एकत्रित होना....फिर मैं आपको बुद्धि का चमत्‍कार दिखाऊंगा । अब पहले क्‍या शेखी बघारूं । आप सब परसों इस भय से मुक्‍त हो जाओगे ।` सभी ने तालियों से बूढ़े चूहे की ऐसी बातों का स्‍वागत किया और परसों के शुभ दिन की प्रतीक्षा करने लगे ।

आखिर वह दिन आ गया । उस दिन प्रात: चूहे ने सफेद धोती पहनी । माथे पर लम्‍बा बहुरंगी तिलक लगाया व हाथ में बीन लेकर उसी ओर चल दिया । सभी हैरान थे कि अवश्‍य चूहा आज उस विषैले सांप का ग्रास बनेगा । लेकिन उसने तो समा ही बांध दिया । उसने ऐसी वीणा बजाई कि विषैला नाग मस्‍त हो झूमने लगा । चूहेराज आगे-आगे व नाग पीछे-पीछे । सभी जीव-जन्‍तु उत्‍तेजना से देख रहे थे कि चूहा अब मरा, तब मरा ।

लेकिन कुछ देर में चूहा बीन बजाते-बजाते पास के खाली गहरे कुएं के समीप आ गया । उसने अपनी बीन कुएं के खाली हिस्‍से की ओर बजाई कि नाग ने जोर से अपना फन उस पर गिराया । लेकिन यह क्‍या, देखते-ही-देखते नाग उस गहरे खाली कुएं में गिर गया । सभी यह देखकर हैरान थे । चूहेराज ने सबको बुलाया व सभी ने ऊपर से कंकड़-पत्‍थर से उसे वहीं दबा दिया । जीवों ने चूहेराज को अपने कंधों पर उठा लिया । सभी जाव-जन्‍तु उसकी बुद्धि के चमत्‍कार की दाद देने लगे । सभी ने उसे प्रणाम किया । बाद में सभी ने मिल-जुलकर अपनी-अपनी पसन्‍द के फल-फूल व घास चरना शुरू कर दिया और निर्भय हो कर नील प्रदेश के जंगल में कुलांचें भरने लगे ।

(स्वर : श्री सतेंद्र दहिया )
    

अस्वीकरण संपर्क करें सामग्री राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई है विकसित और रखरखाव : राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र (एनआईसी)
1