राजभाषा विभाग

Department of Official Language
गृह मंत्रालय, भारत सरकार

 प्रसिद्ध लघु कहानियाँ
+ रविंद्रनाथ टैगोर
+ प्रेमचंद
+ जयशंकर प्रसाद
+ यशपाल
+ चंद्रधर शर्मा गुलेरी
+ सआदत हसन मंटो
+ फणीश्वरनाथ रेणु
+ निर्मल वर्मा
+ नागार्जुन
+ जैनेन्द्र कुमार
+ यशपाल
+ भीष्म साहनी
+ महीप सिंह
+ सुदर्शन
+ कृष्णा सोबती
+ सुभद्रा कुमारी चौहान
+ पंचतंत्र की कहानियाँ
+ डॉ दिनेश चमोला
-  डॉ प्रियंका सारस्वत(संपादक)
   पहले विचारो फिर करो
   राजभक्‍त राजकुमार
   लालची नाई
   लोमड़ी की चतुराई
   चालाक कौवा
   दयालु हंस
   सहायक शत्रु
   शक्‍तिशाली मेढा
   घमंडी मोर
   बुद्धिमान मंत्री
चालाक कौवा

एक बाग में पेड़ पर एक कौवा और बटेर रहते थे I उन दोनों में बहुत गहरी मित्रता थी I कई बार कौवे और बटेर दोनों को भरपेट भोजन नहीं मिल पाता था जिसकी वजह से दोनों अक्सर भूखे रह जाते थे I एक दिन दोनों ने भोजन की तलाश में नजदीक के गांव में जाने का निर्णय किया I

दोनों मित्र गांव की और उड़ चले I जब वे गाँव के ऊपर पहुंचे तो कौवे ने देखा कि एक आदमी अपने सिर पर मिट्टी के मटके में कुछ लिए जा रहा है I वह एक दही वाला था जो अगले गाँव में दही बेचने जा रहा था I मार्ग में एक विशाल वृक्ष देख कर दही वाले ने वहीं ठहर कर कुछ देर विश्राम करने का विचार किया I ऐसा सोच कर उसने अपना मटका ज़मीन पर रखा और पेड़ के नीचे जाकर बैठ गया I कौव्वा और बटेर भी भोजन की तलाश में उड़ते-उड़ते थक कर उसी पेड़ की एक डाल पर जा बैठे I दही वाले ने अपने मटके को कपड़े से ढका नहीं था, केवल मटके के मुंह पर एक तश्तरी रख रखी थी I कौवे ने मटके की तश्तरी को हटाकर देखा और आकर बटेर से कहा, `मित्र, उस आदमी के मटके में स्वादिष्ट दही है I चल कर उसका स्वाद चखने का प्रयास करते हैं I`

`परंतु हम ऐसा कैसे कर सकते है?` बटेर ने पूछा I

कौवे ने कहा, ` बस तुम देखते जाओ, मैं झट से मटके के पास जाऊंगा और अपनी चोंच में दही भर कर झट से उठ जाऊंगा I`

ऐसा कहते ही कौवे ने जैसा कहा था, वैसा ही किया I उसे मीठी दही का स्वाद बहुत पसंद आया I इसलिए वह बार-बार दही का स्वाद चखने के लिए मटके के पास जाने लगा I इसी बीच, दही वाले की आंख खुल गई I उसने तश्तरी उठाकर मटके के मुंह पर रखी और मटका सिर पर रख कर चल दिया I बटेर बोला, `मित्र, अब तुम दोबारा ऐसा मत करना I यदि दही वाले ने तुम्हें देख लिया तो वह तुम्हें पकड़ लेगा I `

`नहीं, नहीं I वह मुझे नहीं देख पाएगा I मैं मटके के पास उसके पीछे से जाऊंगा I `

बटेर कौवे को लगातार चेतावनी दे रहा था I परंतु कौवे ने बटेर की एक न सुनी और लगातार दही खाने लगा I शीघ्र ही दही वाला उस घर के पास पहुंच गया जहां उसे वह दही देनी थी I जब दही वाले ने मटका जमीन पर रखा तो उसने देखा कि मटका लगभग खाली हो चुका था I उसमें थोड़ी सी ही दही बची हुई थी I इधर-उधर देखने पर उसने पाया कि एक बटेर व कौवा एक दीवार पर बैठे हुए हैंI

कौवे की दही से सनी चोंच देखते ही दही वाला समझ गया कि सारी दही कौवे ने ही खाई है I क्रोध में दही वाले ने एक पत्थर उठाया और पूरी शक्ति से कौवे की तरफ फेंक दिया I यह देखते ही कौवा तुरंत उड़ गया I सो पत्थर कौवे को न लगकर मासूम व निर्दोष बटेर को जा लगा I फलस्वरुप निर्दोष बटेर जमीन पर गिर कर मर गया I

बेचारा बटेर देर से समझ पाया कि धूर्त कौवे की चालाकी तथा गलती का परिणाम उसे भी भुगतना पड़ सकता है I

(स्वर : श्री सतेंद्र दहिया )
    

अस्वीकरण संपर्क करें सामग्री राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई है विकसित और रखरखाव : राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र (एनआईसी)
1