राजभाषा विभाग

Department of Official Language
गृह मंत्रालय, भारत सरकार

 प्रसिद्ध लघु कहानियाँ
+ रविंद्रनाथ टैगोर
+ प्रेमचंद
+ जयशंकर प्रसाद
+ यशपाल
+ चंद्रधर शर्मा गुलेरी
+ सआदत हसन मंटो
+ फणीश्वरनाथ रेणु
+ निर्मल वर्मा
+ नागार्जुन
+ जैनेन्द्र कुमार
+ यशपाल
+ भीष्म साहनी
+ महीप सिंह
+ सुदर्शन
+ कृष्णा सोबती
+ सुभद्रा कुमारी चौहान
+ पंचतंत्र की कहानियाँ
+ डॉ दिनेश चमोला
-  डॉ प्रियंका सारस्वत(संपादक)
   पहले विचारो फिर करो
   राजभक्‍त राजकुमार
   लालची नाई
   लोमड़ी की चतुराई
   चालाक कौवा
   दयालु हंस
   सहायक शत्रु
   शक्‍तिशाली मेढा
   घमंडी मोर
   बुद्धिमान मंत्री
लालची नाई

बहुत पहले की बात है । एक गरीब ब्राह्मण था । वह भगवान शिव का परम भक्त था, पूजा करते समय वह भगवान शिव को कुछ-न-कुछ अर्पित जरूर करता था ।

भगवान शिव भी उसकी भक्ति से बहुत प्रसन्न थे । एक दिन वे ब्राह्मण के सम्मुख प्रकट हुए और बोले, `प्रिय ब्राह्मण, मैं तुम्हारी भक्ति से बहुत प्रसन्न हूं । तुम मुझसे जो भी चाहो, मांग सकते हो ।`

`भगवा! आपने मुझे दर्शन दिए, मेरे लिए यही सब कुछ है । कृपया मुझे सुविधाजनक जीवन जीने तथा साधु-संतों व निर्धनों की सहायता करने योग्य उपयुक्त धन दीजिए ।` ब्राह्मण ने कहा ।

`ठीक है, मैं तुम्हें यह वरदान देता हूं । कल सुबह स्नान करने के पश्चात् तुम अपने सिर के बाल काट कर उन्हें अपने घर के पीछे की झाड़ियों में छिपा देना । उसके बाद जब तुम्हारे घर कोई भिखारी आए, तब तुम उसके सिर पर जोर से डंडा मार देना । वह भिखारी एक सोने की मूर्ति में परिवर्तित हो जाएगा और तुम्हें धनवान बनने के लिए सोना मिल जाएगा ` ऐसा कह कर भगवान शिव वहां से अदृश्य हो गए ।

अगले दिन गरीब ब्राह्मण प्रात: काल जल्दी ही उठ गया । उसने स्नान किया और भगवान शिव की पूजा करने लगा । उसने एक नाई को बुलाया । नाई ने ब्राह्मण का मुंडन भी कर दिया । लेकिन नाई यह जानने के लिए बहुत उत्सुक था कि यह ब्राह्मण स्नान करके अचानक अपने सिर के बालों को क्यों कटवा रहा है । इसलिए नाई चुपचाप वहां से चला गया और घर के पास ही लगे एक पेड़ के पीछे छिपकर देखने लगा ।

थोड़ी देर के बाद गरीब ब्राह्मण ने एक डंडा उठाया और झाड़ियों के पीछे छिपा दिया । तभी वहां एक भिखारी आया । भिखारी के आते ही ब्राह्मण ने वह डंडा भिखारी के सिर पर दे मारा । डंडे के लगते ही वह भिखारी सोने की मूर्ति में परिवर्तित हो गया । ब्राह्मण उस मूर्ति को उठा कर ले गया

नाई यह सब कुछ देख रहा था । वह सोचने लगा, `लगता है, इस ब्राह्मण को कहीं से धनी बनने का रहस्य पता लग गया है और अब यह रहस्य मैं भी जान गया हूं । मैं भी ऐसा ही करुंगा ।`

यह सोचकर लालची नाई तुरंत अपने घर चला गया । घर जाकर सर्वप्रथम उसने अपने सिर के बालों को काटा, उन्हें घर के पीछे छिपाया और एक मजबूत डंडा लेकर किसी भिखारी के आने की प्रतीक्षा करने लगा । संयोगवश एक भिखारी उसके घर भी आया । उसने भिखारी के सिर पर तेजी से डंडा दे मारा । बेचारा भिखारी सिर पर चोट लगते ही लड़खड़ाकर जमीन पर गिर पड़ा और उसकी मृत्यु हो गई । यह देख वहां भीड़ इकट्ठी हो गई । सभी ने नाई को पकड़ लिया । उस पर हत्या का आरोप लग गया । राजा ने भिखारी की हत्या के जुर्म में उसे मृत्यु-दंड दे दिया । इस प्रकार लालची नाई का दु:खद अंत हुआ ।

 

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हमें कभी भी लालच नहीं करना चाहिए ।

 

*********************

 

(स्वर : श्री सतेंद्र दहिया )
    

अस्वीकरण संपर्क करें सामग्री राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई है विकसित और रखरखाव : राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र (एनआईसी)
1