राजभाषा विभाग

Department of Official Language
गृह मंत्रालय, भारत सरकार

 प्रसिद्ध लघु कहानियाँ
+ रविंद्रनाथ टैगोर
+ प्रेमचंद
+ जयशंकर प्रसाद
+ यशपाल
+ चंद्रधर शर्मा गुलेरी
+ सआदत हसन मंटो
+ फणीश्वरनाथ रेणु
+ निर्मल वर्मा
+ नागार्जुन
+ जैनेन्द्र कुमार
+ यशपाल
+ भीष्म साहनी
+ महीप सिंह
+ सुदर्शन
+ कृष्णा सोबती
+ सुभद्रा कुमारी चौहान
+ पंचतंत्र की कहानियाँ
- डॉ दिनेश चमोला
   नाग का उपकार
   प्रेम का प्रतिदान
   चोर की दाढ़ी में तिनका
   उपकार का बदला
   गोमती का उपकार
   करनी का फल
   बूढ़ा पीपल और मोहिनी
   चूहे जी का चमत्‍कार
   चम्‍पा का राजकुमार
+  डॉ प्रियंका सारस्वत(संपादक)
नाग का उपकार

शिप्रा नदी के तट पर फूलों की बहार रहती थी I उसके किनारे के हरे-भरे जंगलों में कई तरह  के जीव-जंतु रहते थे I नदी के आर-पार का सौंदर्य इतना आकर्षक था कि जो भी पशु-पक्षी एक बार शिप्रा के किनारे आ जाता तो उसकी सुंदरता से मुग्ध होकर अपनी पूरी जाति-बिरादरी को वहीं ला बसाता I  इसलिए शिप्रा के किनारे के जंगल में जीव-जंतुओं की विविधता थी I  हर बार वसंत ऋतु में वहां पशु-पक्षियों की संख्या बराबर बढ़ती रहती I  यह एक खुला चिड़ियाघर थाI  पिछले  कई सालों से वहां हिरणों की इतनी प्रजातियां आईं थी कि पूरे वन प्रांत की सुंदरता को उन्होंने अपने में समेट लिया था I  सभी जीव-जंतु आपस में प्रेम से रहते थे I  इसलिए आस-पास के जंगलों के जीव-जंतु उनके प्रेम से ईर्ष्या करते

शिप्रा नदी के किनारे पर्यटक घूमने के लिए आते और वहां की सुंदरता पर  रीझ कर कई-कई दिनों तक वही डेरा डाले रहते I   अब कुछ दिनों से वहां प्रवासी पक्षियों के झुंड भी आने लगे थे जो सभी के लिए इतने लोकप्रिय हो गए तो पड़ोसी हेमंत प्रदेश के शिकारियों को इसकी खबर लगी I अब वे भी वहां दल बनाकर आने लगे I जब उन्होंने शिप्रा नदी के जीव-जंतुओं को देखा तो अपनी किस्मत को सराहा I  बस फिर क्या था I वे अंधाधुंध जीव-जंतुओं को मार-मार कर हेमंत प्रदेश में व्यापार करने लगे I जो शिकारी आज तक भूखों मरते थे वे धनी और समृद्ध हो गए I लेकिन दूसरी ओर शिप्रा नदी का सौंदर्य दिन-प्रतिदिन उजड़ने लगा था I  शिकारियों के डर से पक्षी उस जगह  को छोड़ कर दूसरे जंगलों को उड़ चले I लेकिन हिरणों का समूह अभी भी शिप्रा के किनारे के हरे- भरे जंगलों में कुलांचें भरता रहता I

हेमंत प्रदेश के राजा कुमार सैन ने जब वहां के दुर्लभ  हिरणों को देखा तो उसने पूरा का पूरा जंगल खरीद लिया I अब वहां केवल राजा का शिकारी ही शिकार करता I वह रोज कई-कई हिरणों को मार कर राजमहल में ले जाता I राजा उसे हर नए हिरण पर स्वर्ण मुद्राएं देता I

रीमा हिरणी का परिवार अपनी सुंदरता के लिए प्रसिद्ध था I एक दिन रीमा हिरणी-हिरण चारे की खोज में दूर देश गए हुए थे तो वे शिकारी के चंगुल में फंस गए I शिकारी ने उन्हें मार गिराया I यह बात सुन उनके दो बच्चे नीमा और नीरु बहुत दुखी हुए I वे उदास हो रोने लगे I दोनों शिप्रा के तट पर अपने माता-पिता की याद में रो रहे थे I उन्होंने झाड़ियों में से निकलते हुए एक बहुत बड़े अजगर को देखा I उन्होंने उसे प्रणाम कर कहा-

`प्रणाम नागराज! हम दोनों अनाथ हैं I हमारे माता-पिता को हेमंत प्रदेश के शिकारी ने मार गिराया है I  हम बहुत दुखी हैं कि जैसे माता पिता के बिना हम रो रहे हैं वैसे ही यहां के सभी जीव-जंतु रोते रहेंगे.नागराज ! क्या आप हमारी सहायता कर सकते हैं ?`

`मेरे नन्हे मित्रों ! वह कैसे?` नागराज ने फुकार कर कहा I

` हे नागराज ! या तो आप हमें भी मार दो अथवा इस जंगल के जीवों की रक्षा के लिए उस शिकारी को खत्म कर दो I सभी आपको दुआएं देंगे नागराज... शिप्रा नदी भी I`

` ठीक है, नन्हे मित्रों ! तुम्हारे परोपकारी विचारों की सहायता मैं अवश्य करूंगाI` नागराज ने यह कहा ही था कि कुछ दूरी पर वही शिकारी दिखाई दिया I जीव-जंतु भागने-दौड़ने लगेI अजगर ने उन्हें अपने पास की झाड़ी में छुपने के लिए कहा I यह सुन नीमा और नीरु पास में ही छुप गए I  शिकारी घमंड से छाती फुलाता हुआ वहां शिकार करता-करता आ गया I जब वह फिर से हरिणशावकों पर निशाना साधने लगा तो अजगर ने पूरे जोर से डंक उसके माथे पर दे मारा I वह उसके जहरीले विष से वहीं पर गिर कर ढ़ेर हो गया I हरिणशावकों ने कहा- हे नाग देवता ! यह आपने शिप्रा नदी और यहां के जीव-जंतुओं पर बहुत बड़ा उपकार किया हैI`

`मित्रों! आगे भी कोई संकट हो तो निःसंकोच कहना !` नागराज ने कहा I

उन्होंने उसे प्रणाम किया और फिर से कुलांचें भरने लगे I उसके बाद वहां कोई शिकारी नहीं आया I शिप्रा का तट फिर से हरा-भरा हो गया I फिर वहां कई प्रकार के जीव-जंतु खुशी-खुशी विचरण करने लगेI

 

(स्वर : श्री सतेंद्र दहिया )
    

अस्वीकरण संपर्क करें सामग्री राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई है विकसित और रखरखाव : राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र (एनआईसी)
1